WHY R.T.I AMENDMENT BILL SO DISPUTED?

WHAT MAKES R.T.I AMENDMENT BILL SO CONTROVERSIAL

भारत जैसे देश जो की एक लोकतांत्रिक देश है जिसमे जनता ही सरकार चुनती है और जनता के द्वारा दिए जाने वाले टैक्स से ही सरकार शासन व्यवस्था एवम प्रशासनिक कार्य करती है परन्तु सरकार के द्वारा किये गए कार्यो की जानकारी जनता कभी भी मांग सकती है . तथा उच्च न्यायालय के अनुसार यह भी कहा गया है की जनता को अभिव्यक्ति और सूचना का अधिकार है | भारत के आज़ाद होने के एक लंबे आरसे के बाद भी लोगो के पास सूचना का अधिकार नहीं था | एक लम्बे समय की प्रतीक्षा/प्रदर्शन के बाद 2005 में सूचना का अधिकार अस्तित्व में आया जो की एक संसदीय समिति में पूर्णतः पक्ष एवं विपक्ष पर बहस करके पास हुआ था | इस समिति के मुख्य E. M. Sudarsana Natchiappan थे | एक मजबूत बहस के बाद आये इस क़ानून ने भ्रष्टाचार के खिलाफ काफी प्रभावी हुआ एवं सरकार के द्वारा किये गए कार्यो का ब्यौरा अब लोगो के पास था | परन्तु 2005 में बनाये गए इस एक्ट में हाल ही दिनों में नरेंद्र मोदी प्रसाशन ने कुछ विसंगतियो को दूर करने के लिए इसमें संसोधन लाये है | प्रसाशन का मानना है की 2005 में आये सूचना के अधिकार एक्ट जल्दी जल्दी बना दिए गए थे | हलाकि यह विधियक लोकसभा और राज्यसभा में पास हो गया है | कई सदस्य इस विधियक के पक्ष में नहीं थे और वोटिंग के समय संसद से चले गए | उनका मानना है की संसद में बहुमत के आधार पर रूलिंग पार्टी सभी विधियक बिना किसी बहस के पास करवा लेती है जो की लोकतंत्र का व्यवहार नहीं है |

परन्तु क्या सूचना के अधिकार एक्ट में संसोधन की जरुरत है ? इस महत्वपूर्ण एक्ट में संसोधन से जनता को फायदा मिलेगा या फिर सरकार अपने कार्यो के प्रति जवाबदेही नहीं होना चाहती ?

संसोधन विधियक में क्या है ?
सरकार ने 2005 के सूचना के अधिकार एक्ट में इसके ढांचे में कुछ बदलाव किये है |
1 . सेक्शन 13
2 . सेक्शन 16

WHY R.T.I AMENDMENT BILL SO DISPUTED?
WHAT IS SECTION 13 AND 16:

सूचना के अधिकार एक्ट 2005 में सेक्शन 13 (1) के अनुसार “मुख्य सूचना आयुक्त” और “सूचना आयुक्त”के कार्यकाल की अवधि 5 वर्ष या फिर जब तक वह 65 वर्ष का ना हो तब तक वह वह पद से वंचित नहीं हो सकता है |
सेक्शन 13 (5) के अनुसार “मुख्य सूचना आयुक्त” की वही वेतन भत्ता होगा जो “मुख्य निर्वाचन आयुक्त” का होता है | और इसी प्रकार “सूचना आयुक्त” का वेतन “निर्वाचन अधिकारी” के बराबर होगा |

ALSO READ: Views Of Bollywood Celebrities About C.A.A, NRC, NPR

सूचना के अधिकार एक्ट 2005 में सेक्शन 16 के अनुसार “राज्य मुख्य सूचना आयुक्त”और “राज्य सूचना आयुक्त”के कार्यकाल की अवधि 5 वर्ष या फिर जब तक वह 65 वर्ष का ना हो तब तक वह वह पद से वंचित नहीं हो सकता है |और इसी प्रकार “राज्य मुख्य सूचना आयुक्त” का वेतन “निर्वाचन अधिकारी’ के बराबर होगा और “राज्य सूचना आयुक्त” का वेतन “राज्य सचिव”के बराबर होगा |

R.T.I AMENDMENT BILL 2019 :

विधियक में सेक्शन 13 में बदलाव करते हुए कहा गया है की “मुख्य सूचना आयुक्त” और “सूचना आयुक्त’ के कार्यकाल,सेवा एवं वेतन और भत्ता केंद्र सरकार द्वारा दी जाएगी | और इसी प्रकार विधियक में सेक्शन 16 में बदलाव करते हुए कहा गया है की “राज्य मुख्य सूचना आयुक्त” और “राज्य सूचना आयुक्त” के कार्यकाल,सेवा एवं वेतन और भत्ता केंद्र सरकार द्वारा दी जाएगी |
विधीयक में ये भी कहा गया है की “मुख्य सूचना आयुक्त”और “सूचना आयुक्त” के पहले के सरकारी नौकरियों के पेंशन को वर्तमान के नौकरी के वेतन में नहीं काटे जायेगे |

GOVERNMENT STAND:

डॉक्टर जितेंद्र सिंह ने कहा की सूचना के अधिकार एक्ट को संस्थागत सवरूप प्रदान करना ,व्यवस्थित बनाना एवं परिणामोमुखी बनाना है जिससे सूचना के अधिकार एक्ट का ढांचा मजबूत होगा |
प्रशासन का मानना है की इसमें कई विसंगतिया है जिसमे सुधार की जरूरत है |

सरकार का कारण /तर्गसंगतता
प्रशासन ने तर्क दिया की मुख्य सूचना आयुक्त को उच्तम न्यायालय के बराबर का दर्जा दिया गया है लेकिन उसके फेसलो पर उच्च न्यायालय में अपील की जा सकती है | प्रशासन का मानना है की अगर दोनों की वेतन बराबर है तो कैसे एक के फेसलो को निचली अदालत में अपील की जा सकती है |
प्रशासन ने कहा है की मुख्य सूचना आयुक्त का सम्बन्ध एक असंवैधनिक बॉडी से है और मुख्य निर्वाचन आयुक्त का सम्बन्ध संवैधानिक बॉडी से है जो की अनुच्छेद 324 के बेस पर बना है तो यह बात कितनी तर्कसंगत है की मुख्य सूचना आयुक्त और मुख्य निर्वाचन आयुक्त दोनों बराबर है ?
ठीक उसी प्रकार निचली पदों की समस्या है |
दोनों के काम अलग है,दोनों के ढांचे अलग है ,दोनों का सवरूप अलग है तो दोनों एक जैसे कैसे है?

विपक्ष और अपोजिशन के तर्क:
. संसोधन विधियक के विपक्ष ने कहा की इससे सूचना के अधिकार के निष्पक्षता पर सवाल उठता है |
अगर मुख्य सूचना आयुक्त और सूचना आयुक्त की वेतन भत्ता ,कार्यकाल और सेवाएं केंद्र सरकार के पास आ जाएगी तो सरकार के खिलाफ कोई डाटा नहीं उपलब्ध हो पायेगा | यह एक्ट फिर जानता के प्रति नहीं बल्कि सरकार के प्रति और सरकार के लिए काम करने वाली हो जाएगी

ALSO READ:India: the inadequate economy is a cyclical phenomenon?

सूचना के अधिकार के प्रशासन में काम करने वाले लोग सरकारी नौकर की तरह बर्ताव करेंगे और सरकार ही तय करेगी की क्या करना है और क्या नहीं |

विधेयक के पास हो जाने पर मुख्य सूचना आयुक्त और सूचना आयुक्त केंद्र को खुश करने में लग जायेगे ताकि उनकी नौकरी और वेतन में कई कमी ना आये और पुराने नौकरीओ के पेंशन भी आती रहे |
विधेयक के जरिये सूचना के अधिकार के स्वतंत्र और स्वायत्ता समाप्त हो जाएगी |

अगर कोई भी सरकार बहुमत से आये तो यह नहीं की वह अपने फायदे के अनुसार क़ानून बनती जाए और संसदीय समिति में बिना बहस किये विधेयक पास करवाती जाए बल्कि किसी भी मुद्दे पर बहस जरुरी है | यह बहस ही बहुत सारे दृश्टिकोण खोलता है और मुद्दे के पक्ष के साथ साथ कई विपक्ष तर्क भी सामने आते है और इसी प्रकार सूचना का अधिकार एक्ट सामने आया था |
EXAMPLE…
15वी लोकसभा में 71 % विधेयक को संसदीय समिति के पास भेजा गया अतः पूर्ण रूप से विधेयक पर बहस हुई परन्तु 16वी लोकसभा में 26 % विधेयक को संसदीय समिति में भेजा गया और जिसमे पूर्ण रूप से तर्क वितर्क नहीं हुए और अब 17वी लोकसभा में 11 विधेयक में से 1 भी बिल संसदीय समिति में
बिना बहस के पास होते जा रहे है |

WHY R.T.I AMENDMENT BILL SO DISPUTED?

HISTORY OF R.T.I IN INDIA

अंग्रेजो के भारत में शासन करने के साल बाद भी शासकीय गोपनीयता अधिनियम 1923 कानून भारत में लागू हुआ। इस कानून के तहत यह बताया गया था की सरकार को किस भी सूचना लो गोनपनीय रखने का पूर्ण अधिकार है । और वे जनता के प्रति जवाबदेही नही होगी।

देश को अंग्रेजो से 1947 में आज़ादी मिलने के के साल बाद भी संविधान में सूचना के अधिकार की कोई चर्चा नही हुई । और न ही शासकीय गोनपनीय अधिनियम में कोई संशोधन किया गया। इसके चलते सरकार धारा 5 और धारा 6 का लाभ उठाकर जनता से सूचना छुपाती रही।

भारत में पहली बार सूचना के अधिकार के प्रति सजगता/ध्यान वर्ष 1975 के उत्तर प्रदेश बनाम राज नारायण केस से पड़ी। इस मामले में उच्च न्यायालय में दलील दी की लोक प्राधिकारियों द्वारा सार्वजनिक कार्यो का ब्यौरा जनता हो देना आवश्यक है। इस दलील ने संविधान में वर्णित 19(अ) के दायरे को बढ़ाकर उसमे सूचना के अधिकार को भी शामिल कोय गया।

1982 में दूसरे प्रेस असयोग ने शासकीय गोपनीयता कानून 1923 की धारा 5 की सम्पति पर सिफारिश की। आयोग ने धारा 5 को इसलिए समाप्ति की ओर बढ़ाया क्योंकि उनका मनना था की इस धारा में यह कही भी परिभाषा नही है की गुप्त और शासकीय क्या है।

इसके बाद दूसरे प्रशासनिक आयोग ने इस कानून को निरस्त करने की सिफ़ारिश भी की।
1990 के शुरुआती सालो में मजदूर किसान शक्ति संगठन ने लोगो की हक की लड़ाई लड़ते हुए सूचना के अधिकार को एक नए सिरे से परिभाषित किया ।

एम.के.एस.एस के अनुसार भ्रष्टाचार समाप्ति के लिए जनसुनवाई कार्यक्रम लाना आवश्यक है।
सरकारी खर्च का सोशल ऑडिट करवाना
सरकारी खर्च को जनता के सामने रखा जाये
जिन लोगो को वाजिव हक़ नहीं मिला उन्हें सुनवाई का मौका मिले |

1989 की तत्कालीन सरकार ने घोषणा की,की सविधान में संसोधन के द्वारा सूचना का अधिकार बनने एवं शसकीय गोपनीयता अधिनियम में संसोधन किया जायेगा लेकिन कई कोशिशों के बाबजूद इसे लागू नहीं किया गया |

सरकार ने 1997 में एच डी शौरी कमेटी का गठन किया | समिति ने सूचना की स्वतंत्रा का प्रारूप प्रस्तुत किया लेकिन इस कमेटी पर कोई काम नहीं हुआ |
1997 में मुक्यमंत्रियो द्वारा संकल्प लिया गया की केंद्र और राज्यों में पारदर्शिता के लिए सूचना का अधिकार लागू करे | इस दिशा में पहला कदम उठाने वाला राज्य तमिलनाडु था जिसने 1997 में आर टी आई प्रारूप पास किया |

साल 2002 में सूचना का स्वतंत्रा विधियक पास हुआ और जनवरी 2003 में राष्ट्रपति ने अपनी मंजूरी दे दी| और फिर समाज में जवावदेही और पारदर्शिता के लिए 2005 में सूचना का अधिकार पारित हुआ | आज विश्व में 80 से जयादा देशो में यह कानून लागु हुआ |

निष्कर्ष

इस बात में कोई दोराय नहीं है की सरकार अब सभी इंस्टीटूशन को अपने हिसाब से चलना चाह रही है परन्तु इससे जनता का कोई फायदा नहीं हो पा रहा है| और अगर सरकार ऐसे काम करते रहेगी तो आगे आने वाले चुनाव उनके लिए जयादा फायदेमंद नहीं रहेंगे | सूचना का अधिकार कानून में कोई बदलाव की जरुरत नहीं थी यह पहले से ही जनता हो पारदर्शिता प्रदान कर रहा था और सभी विभागों के किये गए कामो का ब्यूरा भी दे रहा था | अब इस क़ानून में बदलाव ने जनता का प्रति जवावदेही और पारदर्शिता को खो दिया है |

THANK YOU…

9 thoughts on “WHY R.T.I AMENDMENT BILL SO DISPUTED?

  • May 10, 2020 at 3:41 am
    Permalink

    I precisely desired to appreciate you all over again. I’m not certain the things that I might have undertaken in the absence of these creative concepts revealed by you relating to such a problem. It previously was an absolute challenging scenario for me, nevertheless spending time with a new skilled technique you resolved it made me to leap for happiness. I will be happier for your service and then pray you find out what a powerful job that you are doing training people today by way of a site. Probably you have never come across any of us.

    Reply
  • May 13, 2020 at 4:59 am
    Permalink

    I needed to create you that little bit of remark in order to thank you very much the moment again on your superb ideas you have featured above. It has been generous of you to supply freely what exactly a number of people would’ve offered as an ebook to generate some profit for their own end, particularly considering that you could have tried it in case you decided. Those strategies also worked to become good way to recognize that some people have similar fervor just like my very own to know very much more pertaining to this issue. I believe there are a lot more fun periods in the future for individuals who read through your site.

    Reply
  • May 16, 2020 at 2:46 pm
    Permalink

    I in addition to my buddies were going through the best guidelines from your web blog then the sudden came up with a horrible suspicion I had not thanked the site owner for them. My people are actually for this reason warmed to see all of them and already have without a doubt been tapping into these things. We appreciate you indeed being so kind and also for figuring out some brilliant things most people are really wanting to understand about. My sincere regret for not saying thanks to you sooner.

    Reply
  • May 20, 2020 at 1:09 am
    Permalink

    Thank you for all your valuable effort on this web site. Kate enjoys engaging in investigations and it’s obvious why. We hear all about the compelling form you give both useful and interesting tips and tricks on this blog and therefore invigorate participation from visitors on that issue plus our favorite girl is certainly starting to learn a great deal. Have fun with the remaining portion of the new year. You’re the one doing a good job.

    Reply
  • May 22, 2020 at 7:14 am
    Permalink

    I want to express my admiration for your kindness for those who really need assistance with in this subject matter. Your personal dedication to passing the message up and down appeared to be wonderfully important and have specifically allowed folks like me to attain their endeavors. Your entire insightful useful information implies so much to me and a whole lot more to my fellow workers. Thanks a lot; from everyone of us.

    Reply
  • May 25, 2020 at 12:30 am
    Permalink

    I enjoy you because of all your labor on this site. My aunt delights in participating in research and it’s obvious why. Most of us learn all about the dynamic medium you provide important tips and tricks by means of this website and therefore welcome participation from others about this subject so my simple princess is without question starting to learn a lot of things. Have fun with the rest of the year. You are always conducting a tremendous job.

    Reply
  • May 27, 2020 at 7:22 am
    Permalink

    I and my guys came viewing the good key points from your web page and suddenly I got a horrible feeling I never expressed respect to the web blog owner for those techniques. All the young boys became glad to see them and have now simply been having fun with these things. We appreciate you simply being indeed helpful and also for figuring out these kinds of brilliant information most people are really eager to be informed on. My very own sincere regret for not expressing appreciation to you sooner.

    Reply
  • May 29, 2020 at 3:57 pm
    Permalink

    I want to voice my respect for your kind-heartedness supporting those people that have the need for help on this one idea. Your special dedication to passing the solution up and down appears to be extraordinarily helpful and has frequently helped women just like me to attain their pursuits. Your amazing invaluable help and advice can mean this much a person like me and still more to my peers. Warm regards; from everyone of us.

    Reply
  • June 1, 2020 at 8:37 am
    Permalink

    My wife and i ended up being now lucky that Albert managed to do his reports with the ideas he came across through your web pages. It is now and again perplexing just to continually be giving out tricks that many many others have been making money from. And now we already know we have got the writer to appreciate because of that. These explanations you made, the easy site menu, the relationships you will give support to engender – it’s got all astonishing, and it is leading our son and our family imagine that that situation is thrilling, and that’s pretty important. Thanks for all the pieces!

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *